Logo

ब्रेकिंग न्यूज़

हमारे वीर शहीदों का योगदान बहुत बड़ा, लेकिन इतिहास के पन्नों में जगह बहुत कम

हमारे वीर शहीदों का योगदान बहुत बड़ा, लेकिन इतिहास के पन्नों में जगह बहुत कम

Posted at: Mar 28 , 2022 by Swadeshvaani
स्वदेश वाणी 
देवेंद्र शर्मा की रिपोर्ट
 
-समाज को हर परिस्थिति में रहना होगा जागरुक एवं एकजुट : सुदेश कुमार महतो

-हमारी लड़ाई अपने राज्य, अपने समाज व संस्कृति की रक्षा के लिए 

(राँची):आज का दिन उन अगणित बलिदानों को स्मरण करने और उनके संघर्षों को याद करने का दिन है, जिनके त्याग, समर्पण और शहादत से हमें आज़ादी मिली। ब्रिटिश हुक़ूमत के खिलाफ़ आज़ादी की लड़ाई में हमारे वीर शहीदों का योगदान बहुत बड़ा है, लेकिन इतिहास के पन्नों में जगह बहुत कम। सरकार और इतिहासकारों ने हमारे वीर शहीदों की शौर्य गाथा के साथ इंसाफ नहीं किया। धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा की शहादत एवं उनकी शौर्य गाथा को पूरा देश जाने, इसमें 70 साल से भी ज्यादा का वक़्त लग गया। आज का समय बहुत कठिन है क्योंकि यहाँ समाज को तोड़ना आसान है लेकिन जोड़ना उतना ही कठिन। जो समाज जितना संगठित है, वो उतना ही उन्नत और विकसित है, हमें हर परिस्थिति में जागरुक एवं एकजुट रहना होगा। एकजुटता से ही विकास संभव है। हमारी लड़ाई अपने राज्य, अपने समाज व संस्कृति की रक्षा के लिए है। जो समाज पीछे छूट गए हैं, उन्हें प्रथम पाती में लाने की तैयारी करनी होगी।उक्त बातें झारखण्ड के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष श्री सुदेश कुमार महतो ने झारखण्ड के वीर सपूत नीलांबर-पीतांबर जी के बलिदान दिवस पर मोराबादी, राँची में खरवार भोगता विकास संघ द्वारा आयोजित शहादत समारोह में कही। उन्होंने कहा कि वीर शहीद नीलांबर-पीतांबर ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ आंदोलन का जो बिगुल फूंका, उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। झारखण्ड वीर शहीदों, क्रांतिकारियों एवं आंदोलनकारियों की भूमि है। हमें वीर शहीदों की सँघर्ष गाथा से  प्रेरणा लेकर, इतिहास को पुनः लिखना होगा। वीर शहीदों, आंदोलनकारियों को वो सम्मान देना होगा, जिसके वे असली हकदार हैं।


रिलेटेड खबरें

चर्चित खबरे

पहला पन्ना