Logo

ब्रेकिंग न्यूज़

अधिकारियों की अफसरशाही से लटक रही नगर निगम की योजनाएं, स्थल चयन में नहीं रख रहे सावधानी

अधिकारियों की अफसरशाही से लटक रही नगर निगम की योजनाएं, स्थल चयन में नहीं रख रहे सावधानी

Posted at: Aug 29 , 2021 by Swadeshvaani
स्वदेश वाणी

धनबाद:  किसी भी बस्ती के बड़े शहर में बदलाव के लिए विकास के कई काम किए जाते हैं। इसके लिए नगर इकाईयां योजनाओं को बनाते समय स्थानीय नागरिकों की इच्छाओं को जानकर जब उनका क्रियान्वयन करती हैं तो विरोध की गुंजाईश कम हो जाती है। लेकिन जब उनकी आकांक्षाओं को दरकिनार कर काम कराने पर तुल जाती हैं, तो कई तरह की अवरोधक शक्तियां अड़ंगा लगाने को उठ खड़ी होती हैं। कुछ ऐसा ही हो रहा है धनबाद नगर निगम के साथ। जिसके अधिकारी बेलगाम घोड़ों की तरह योजनाओं को लागू करने पर आमादा हैं। जिससे विकास की योजनाओं को भी विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इसकी बानगी हैं गोविंदपुर में लगनेवाले सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट या फिर शास्त्रीनगर में लगाया जानेवाला कम्पैक्टर मशीन। जिनके लगने से पहले ही विरोध के स्वर बुलंद होने लगे हैं। इसको लेकर जहां राजनैतिक शक्तियां इन अवसरों का इस्तेमाल कर लोगों को भड़का कर अपना उल्लू साध रही हैं, वहीं सुविधाओं को लेकर करदाता आम आदमी परेशान हो रहा है। उनका मानना है कि अधिकारियों की इच्छा काम पूरी करने से ज्यादा उसको लटका कर रखने में है। ताकि समय समय पर योजनाओं की घोषणा कर वे काम होते रहने का एहसास कराते रहे।

हीरापुर के संतोष कहते हैं कि वह पिछले कई सालों से निगम की कार्यशैली को देख रहे हैं। उनका मानना है कि जिस काम को निगम नहीं कराना चाहता उसके किसी ना किसी विवाद में फंसा कर लटका कर रखना चाहता है। और इसका सबसे आसान तरीका है कि योजनाओं को इस तरह क्रियान्वित किया जाए कि लोग विरोध प्रदर्शन करने लगें। निगम की कई इस तरह की कार्यशैली की शिकायत करते हुए पुलिस लाइन के सामने रहनेवाले कुंदन कहते हैं कि कंपैक्टर प्लांट अभी घनी बस्ती में बना हुआ है। इसको हटाने को कई बार आवेदन लोगों ने जिला प्रशासन और निगम के अधिकारियों को दिया गया।

 

इसे भी पढ़े....   झारखंड हाईकोर्ट ने जताई नाराजगी, कहा- गैर अनुसूचित जिलों में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं करना दुर्भाग्यपूर्ण


रिलेटेड खबरें

चर्चित खबरे

पहला पन्ना