Logo

ब्रेकिंग न्यूज़

महिलाओं को विधिक रूप से सशक्त होने की जरूरत- डी.डी.सी

Posted at: Dec 9 , 2021 by Swadeshvaani
स्वदेश वाणी

(मेदिनीनगर):  राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली व झारखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकार रांची के निर्देश के आलोक में राष्ट्रीय महिला आयोग के सहयोग से जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वाधान में महिलाओं के लिए विधिक जागरूकता शिविर सह कार्यशाला का आयोजन डीआरडीए के सभागार में किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन  उप विकास आयुक्त मेघा भारद्वाज ने द्वीप प्रज्वलित कर किया। मौके पर उन्होंने कहा कि महिलाओं के अधिकारों के संरक्षण के लिए  तथा उन्हें विधिक रूप से सशक्त बनाने के लिए कई कानूनी प्रावधान है। जरूरत है उनको जानकारी प्राप्त करने का। महिलाओं को विधिक व ब्यवहारिक रूप से जागरूक कर सशक्त व स्वावलंबी बनाया जा सकता है। महिलाओं की रक्षा के लिए बहुत सारे कानून बने हैं। जिसका सदुपयोग कर सकते हैं। महिलाओं को विशेष रूप से जागरूक होने की आवश्यकता है। जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव अरविंद कच्छप  ने कहा कि महिलाएं शिक्षित होंगे तो ग्रामीण क्षेत्रों में व्याप्त कई समस्याएं स्वतः समाप्त हो जाएगी। महिलाओं को विधिक रुप से शिक्षित करने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा कई कार्यक्रम आयोजित कर महिलाओं को सशक्त बनाने का काम किया जा रहा है। महिलाओं के लिए बनाए गए कई कानूनों पर विस्तृत रूप से चर्चा करते हुए कहा कि जब भी किसी महिला को किसी प्रकार की नि:शुल्क विधिक सहायता की आवश्यकता हो तो जिला विधिक सेवा प्राधिकार में आकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए महिलाओं को और किसी पात्रता की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने महिलाओं को शिक्षा, स्वच्छता व स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत बताई। कार्यशाला में प्रशिक्षक के रूप में अधिवक्ता लिली मिश्रा व सुष्मिता तिवारी ने नारी उत्पीड़न,  लैंगिक अपराध, दहेज प्रताड़ना, दहेज प्रतिषेध अधिनियम, पोक्सो एक्ट, डायन बिसाही, घरेलू हिंसा अधिनियम, कार्यस्थल पर महिलाओं के साथ होने वाले उत्पीड़न, बाल विवाह, मानव तस्करी, बालश्रम आदि से संबंधित कानून पर विस्तारपूर्वक चर्चा की। इस कार्यशाला में मौजूद आंगनबाड़ी सेविकाओं ने कई विषयों पर सवाल कर जानकारी भी प्राप्त किए। इसमे महिलाओं को नोटबुक, फोल्डर, फाइल, पेन सहित कानूनी पंपलेट वितरण किए गए। कार्यक्रम में डीएसडब्ल्यू, पैनल अधिवक्ता संतोष कुमार पांडेय, अधिवक्ता अशोक कुमार मिश्रा,  संजय कुमार पांडेय, नीतू सिंह, न्यायालय कर्मी संजीव सिंह, अनुसेवक बसंत गुप्ता, पीएलभी मुनेश्वर राम  सहित दर्जनों आंगनबाड़ी सेविकाए, शिक्षक, आशा दीदी वर्कर उपस्थित थे।


रिलेटेड खबरें

चर्चित खबरे

पहला पन्ना